सहकारी संस्थाओं का स्वरूप

सहकारी संस्थाओं का वर्गीकरण :-

1. स्वरूप पर आधारित

1. शीर्ष संस्था

2. केन्द्रीय संस्था

3. प्राथमिक संस्था

2. उद्देश्यों पर आधारित (त्रिस्तरीय)

2.1 साख संरचना (अल्पावधि/मध्यावधि/खाद/बीज/वस्तु व्यवसाय)

2.1.1

म.प्र.राज्य सहकारी बैंक मर्या.

शीर्ष

2.1.2

जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक मर्या.

केन्द्रीय

2.1.3

प्राथमिक कृषि साख संस्थाऐं मर्या.

प्राथमिक

2.2 वनोपज व्यापार/संग्रहण

2.2.1

म.प्र.राज्य लघु वनोपज सहकारी संघ मर्या.

शीर्ष

2.2.2

जिला वनोपज यूनियन मर्या.

केन्द्रीय

2.2.3

प्राथमिक वनोपज संस्थाऐं मर्या.

प्राथमिक

2.3 उपभोक्ता संस्थाऐं

2.3.1

म.प्र.राज्य सहकारी उपभोक्ता संघ मर्या.

शीर्ष

2.3.2

जिला थोक भण्डार मर्या.

केन्द्रीय

2.3.3

प्राथमिक उपभोक्ता भण्डार मर्या.

प्राथमिक

2.4 दुग्ध संस्थाऐं

2.4.1

एम.पी.स्टेट को-आप.डेयरी फेडरेशन

शीर्ष

2.4.2

क्षेत्रीय दुग्ध सहकारी संघ मर्या.

केन्द्रीय

2.4.3

प्राथमिक दुग्ध सहकारी संस्थाऐं मर्या.

प्राथमिक

3. उद्देश्यों पर आधारित (द्विस्तरीय)

3.1 मध्यावधि / दीर्घावधि ऋण

3.1.1

म.प्र.राज्य सहकारी कृषि एवं ग्रामीण विकास बैंक मर्या.

शीर्ष

3.1.2

जिला सहकारी कृषि एवं ग्रामीण विकास बैंक मर्या.

प्राथमिक

3.2 गृह निर्माण संस्थाऐं (ऋण एवं भूखण्ड / भवन हेतु)

3.2.1

म.प्र.राज्य सहकारी आवास संघ मर्या.

शीर्ष

3.2.2

प्राथमिक गृह निर्माण सहकारी संस्थाऐं मर्या.

प्राथमिक

3.3 विपणन / क्रय विक्रय

3.3.1

म.प्र.राज्य सहकारी विपणन संघ मर्या.

शीर्ष

3.3.2

प्राथमिक विपणन सहकारी संस्थाऐं

प्राथमिक

3.4 विपणन / क्रय विक्रय

3.4.1

म.प्र.राज्य सहकारी बीज उत्पादक एवं विपणन संघ

शीर्ष मर्या., भोपाल

3.4.2

प्राथमिक बीज उत्पादक सहकारी संस्थायें

प्राथमिक

3.5 अनुसूचित जाति विकास हेतु

3.5.1

म.प्र.राज्य सहकारी अन्त्यावसायी विकास निगम

शीर्ष

3.5.2

प्राथमिक जिला अन्त्यावसायी सहकारी संस्था

प्राथमिक

3.6 तिलहन उत्पादक

3.6.1

म.प्र.राज्य सहकारी तिलहन उत्पादक संघ मर्या.

शीर्ष

3.6.2

प्राथमिक तिलहन उत्पादक सहकारी संस्थायें

प्राथमिक

3.7 शिक्षा / प्रशिक्षण

3.7.1

म.प्र.राज्य सहकारी संघ मर्या.

शीर्ष

3.7.2

जिला सहकारी संघ

प्राथमिक